नाथूलाल के पास करीब सवा लाख के विशेष अंक वाले नोट

कोटा। साधवानी के पास खास नंबर वाले नोटों का खजाना है। साधवानी वर्ष 2010 से नोटों का संग्रह कर रहे हैं। साधवानी मानते हैं कि जीवन में अंकों का बड़ा महत्व होता है, इसलिए उन्हें अनूठे नम्बर के नोटों का संग्रह करने की धुन है। उन्होंने अब तक करीब सवा...

ऐसी रसोई..जहां शाम को एक साथ बनता है पूरे समाज का खाना

भीलवाड़ा | टैक्सटाइल सिटी भीलवाड़ा में दाउदी बोहरा समाज समता व एकजुटता की मिसाल है। यह समाज अपने धर्मगुरु की सीख की बीते 12 साल से नियमित पालना कर रहा है। समाज में सामान्य हैसियत रखने वाला परिवार हो या अरबपति, एक वक्त का भोजन एक रसोई में बना ही...

राजस्थान में सरकार वापसी के बहुतेरे जतन, जनता अभी खुद में मगन

राजस्थान विधानसभा चुनाव में अब 6 माह भी शेष नहीं हैं। ऐसे में राज्य में दोनों प्रमुख राजनीतिक दल कांग्रेस व भाजपा के साथ ही अन्य दल बसपा, रालोपा, सपा, आप व रालोद भी अब चुनावी मोड़ में आ चुके हैं। वहीं राज्य में सत्ता वापसी के लिए मुख्यमंत्री अशोक...

दादी से प्रेरित होकर ऐसा रमा मन कि भजनों की गायिका बन गई मीनाक्षी

दादी से प्रेरित होकर ऐसा रमा मन कि भजनों की गायिका बन गई मीनाक्षी भरतपुर। यूं तो घर में गायकी का माहौल नहीं था, लेकिन भक्ति भाव असीम था। दादी सुबह ठाकुरजी की पूजा करते समय भजन गाती थीं, जो मेरे मन को बहुत भाते थे। धीरे-धीरे मेरा मन भजनों में...

महिला सरपंच कुंती ने ओढ़ाई बंजर भूमि को हरियाली की चादर

अलवर | जिले की मालाखेड़ा पंचायत समिति की मोहब्बतपुर ग्राम पंचायत के बिचपुरी गांव में 20 बीघा चारागाह पर पहले कुछ लोगों ने अतिक्रमण कर रखा था। सरपंच कुंती देवी ने बंजर हो चुकी चारागाह भूमि को अतिक्रमण मुक्तकराकर हरा-भरा करने की पहल की। भूमि पर लगाए कुल 2200 पौधों...

संस्कार पथ पर कदम बढ़ाते युवा

घरों पर जाकर करते हैं सुंदरकांड का नि:शुल्क पाठ ब्लर्व……नई पीढ़ी को धर्म, संस्कार और आस्था से जोडऩे के लिए करीब 70 युवाओं की टोली घरों पर जाकर निशुल्क रामचरित मानस और सुंदरकांड का पाठ करती है। युवाओं की यह अनुकरणीय पहल करीब साल भर पहले शुरू हुई। उनकी मेहनत...

दृढ संकल्प, लगन और उचित मार्गदर्शन से मिली कामयाबी

कोटा। हालात चाहे कितने भी मुश्किल हों, अगर दृढ संकल्प, लगन हो और अच्छे शिक्षकों का मार्गदर्शन मिल जाए तो किसी भी एग्जाम को क्रेक कर सफलता की ऊंचाइयों तक पहुंचा जा सकता है। हिंदी माध्यम से पढ़े गोविन्द मीणा की सफलता की कहानी इसे पुष्ट करती है।गोविन्द झालावाड जिले...

डॉक्टर बनकर गांव के हीरो बने मोहम्मद वशीर

कोटा उसके पिता किसान हैं, परिवार की आर्थिक स्थति खराब है। वह सरकारी स्कूल में हिंदी माध्यम से पढ़ता था। परिवार और आसपास के गांव में भी कोई भी डॉक्टर नहीं था, लेकिन उसने सपना देखा कि डॉक्टर ही बनाना है। पहली कोशिश में वह बुरी तरह विफल रहा पर...

बीमारी और विपरीत आर्थिक हालात से लड़ा शिवा उपमन अब बनेगा आईआईटीयन

कोटा। कौन कहता है कि आसमां में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारों…! इस कहावत को चरितार्थ कर दिखाया है शिवा उपमन ने।भरतपुर जिले की रूपवास तहसील के छोटे से गांव ओडेल जाट के विद्यार्थी शिवा के सामने समस्याएं ही समस्याएं थी। कमजोर आर्थिक हालत,...

संसाधनों की कमी को हराने वाली कंचन के जब्बे को सेल्यूट

झुंझुनूं। मन में कुछ करने का जज्बा और काम के प्रति लगन से मेहनत की जाए तो संसाधनों का अभाव बाधक नहीं बनता। कुछ ऐसी ही कहानी है राजस्थान के शेखावाटी की कंचन गुर्जर की। बीए की पढ़ाई कर रही कंचन गुर्जर ने कबड्डी में कई पदक जीते है। फिर...